चिकन हैचरी का बिजनेस कैसे शुरू करे How to Start Chicken Hatchery Business in Hindi

चिकन हैचरी का बिजनेस कैसे शुरू करे How to Start Chicken Hatchery Business in Hindi

चिकन हैचरी बिजनेस अपनाकर आप भी लाखों रुपए महीना कमा सकते हैं। इस काम में मुर्गी के अंडों को कृत्रिम तरीके से हैच करके मुर्गी के चूजों को पैदा किया जाता है।

एक मुर्गी अंडे के ऊपर बैठ कर उससे सेती है। 20 दिन बाद अंडे से चूजा बाहर निकलता है। इस प्रकार की विधि को प्राकृतिक हैचिंग की विधि कहते हैं।

परंतु व्यवसायिक रूप से यह संभव नहीं है। इसलिए कृत्रिम संसाधनों को अपनाकर बिजनेसमैन अंडे से चूजे निकालने का काम करते हैं। Incubators की मदद से हैचरी में अंडों को प्राकृतिक रूप से हैच किया जाता है। इस उद्योग को “चिकन हैचरी बिजनेस” कहते हैं।

इस विधि को अपनाने से बहुत फायदा होता है। इस तरह बहुत कम अंडे ही खराब होते हैं, जबकि प्राकृतिक रूप से जब मुर्गी अंडे को सेती है तो उसमें ज्यादा अंडे खराब होते हैं। बिजनेसमैन मुर्गी के चूजे को बेचकर बढ़िया मुनाफा कमाते हैं।

चिकन हैचरी का बिजनेस कैसे शुरू करे How to Start Chicken Hatchery Business in Hindi

चिकन हैचरी उद्योग के मुख्य ग्राहक पोल्ट्री फार्म मालिक होते हैं। भारत में पोल्ट्री उद्योग धीरे-धीरे बढ़ रहा है। इसलिए आने वाले वर्षों में चिकन हैचरी उद्योग की आवश्यकता बहुत अधिक है। इस व्यवसाय को पढ़े लिखे लोग भी अब शुरू कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें -  मुर्गी फार्म में चूजों का प्रबंधन Chicks management in Poultry farm in hindi

चिकन हैचरी बिजनेस के लिए आवश्यक बातें

  • यह व्यवसाय वहीं पर करना चाहिए जहां पर बहुत से अनेक पोल्ट्री फार्म उपलब्ध हैं, क्योंकि मुर्गी के चूजे को पोल्ट्री फार्म मालिक खरीद लेते हैं। उस स्थान में कितने पोल्ट्री फार्म चल रहे हैं इसके बारे में जानकारी करनी चाहिए। साथ ही गली, गांव और कस्बों में भी फुटकर चूजे बेचकर पैसा कमाया जा सकता है।
  • यह बिजनेस करने के लिए बहुत आवश्यक है कि अंडों की देखरेख अच्छी तरह से की जाये, क्योंकि अंडे नाजुक होते हैं। जरा सा धक्का लगने पर भी टूट जाते हैं। जो लोग इस व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं उन्हें पहले animal husbandry department से ट्रेनिंग लेना बहुत आवश्यक है।
  • यह व्यवसाय शुरू करने के लिए ज्यादातर चिकन हैचरी मालिक बाहर से या वेंडर/ सप्लायर के द्वारा अंडे खरीदते हैं जो उच्च गुणवत्ता वाले होने चाहिए।

चिकन हैचरी बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक मशीनें

हैचरी का काम 3 चरण- Incubator process, Vaccinate process , space for one day chicks में किया जाता है। यह बिजनेस शुरू करने के लिए निम्न मशीन खरीदनी होगी-

  • स्वचालित अंडा देने सेने वाले यंत्र
  • बिजली द्वारा चालित होने वाला debeaker
  • अंडा सेटर
  • अंडे का भार नापने वाली मशीन
  • इलेक्ट्रिक अंडा चेक करने वाली मशीन
  • पानी पिलाने के बर्तन
  • चूजों को खाना खिलाने के बर्तन
  • जनरेटर
  • बाल्टी, ट्रे, टोकरी इत्यादि
  • रेफ्रिजरेटर
  • ऑफिस उपकरण एवं फर्नीचर
  • एयर कंडीशनर
  • पशु चिकित्सा के काम में आने वाले जरूरी उपकरण
  • लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन
इसे भी पढ़ें -  देसी मुर्गी पालन के फायदे Advantages of Desi Free Range Chicken Breed in Hindi

यह बिजनेस शुरू करने के लिए लोकल अथॉरिटी से परमिशन लिखित में एनओसी (NOC) ले लेनी चाहिए। पोल्ट्री फार्म मालिकों से व्यापार करने के लिए टैक्स रजिस्ट्रेशन भी करवाना ज़रूरी है

चिकन हैचरी बिजनेस कैसे होता है

जो लोग यह उद्योग करना चाहते है, उन्हें सबसे पहले पूरा सेटअप लगाना पड़ता है। सभी मशीनों को फिट करवाना होता है। सप्लायर या वेंडर से अंडा खरीदना होता है। बहुत से लोग पहले मुर्गी पालन करते हैं और उसके बाद जब मुर्गी अंडा देती हैं तो चिकन हैचरी का काम शुरू कर देते हैं।

जैसे ही चूजे कुछ दिन के होते हैं वे लोग चूजों को बेच देते हैं। अंडों को हैच (सेने) से पहले उन्हें अच्छी तरह साफ़ किया जाता है। उसके बाद उनकी गुणवत्ता की जांच की जाती है।

टूटे और उपजाऊ अंडों को बाहर कर दिया जाता है। उसके बाद रेफ्रिजरेटर में उन्हें अनुकूल तापमान में रखा जाता है। कुछ दिन बाद Settle Incubator में डाल दिया जाता है।

तापमान और आर्द्रता पर विशेष ध्यान रखा जाता है। चिकन के अंडों को हैच करने के लिए 99.9 फारेनहाइट तापमान और 82% आद्रता को अगले 18 दिनों के लिए मेंटेन किया जाता है।

इसे भी पढ़ें -  ब्रायलर मुर्गी क्या होता है? What is Broiler Chicken in Hindi?

उसके बाद 98.9 फारेनहाइट तापमान और 87%आद्रता को 3 दिनों तक मेंटेन किया जाता है। अंडों को Holder Incubator मैं रख दिया जाता है।

21 दिन पूरा होने के बाद अंडे से चूजे बाहर निकल आते हैं। चूजों पर से झिल्ली हटा देनी चाहिए और अंडों के टूटे खोल को भी हटा देना चाहिए। उसके बाद उनके लिंग की जांच करके उनको अलग अलग कर देना चाहिए।

सभी चीजों का वैक्सीनेशन करवाना जरूरी होता है। उसके बाद चूजे दूसरे पोल्ट्री फार्म मालिको और लोकल लोगों को बेचने के लिए तैयार हो जाते हैं।

Featured Image – https://www.flickr.com/photos/floridamemory/3310996545
https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/2/27/CRATES_FULL_OF_NEWLY_HATCHED_CHIKS_AFTER_BEING_INOCULATED_WAITING_TO_BE_TRANSPORTED_FROM_THE_HATCHERY_OF_KIBBUTZ_TZUBA_TO_MARKETS..jpg

Leave a Comment