ब्रायलर फार्म शेड के फर्श पर लिटर Broiler Farm Shed Litter details in Hindi

ब्रायलर फार्म शेड के फर्श पर लिटर Broiler Farm Shed Litter details in Hindi ब्रायलर फार्म में litter के लिए क्या इस्तेमाल करें?

ब्रायलर फार्म शेड के फर्श पर लिटर Broiler Farm Shed Litter details in Hindi

ब्रायलर फार्म के शेड में लिटर क्या होता है और कैसे इसका उपयोग करते हैं?

ब्रायलर मुर्गियां बहुत ज्यादा दाना खाते हैं। इसलिए वो बहुत ज्यादा मॉल भी छोड़ते हैं जिससे बहुत ज्यादा दुर्गन्ध होता है। इस चीज को कम करने के लिए उनके शेड के फर्श पर लकड़ी का पाउडर, धान और मूंगफल्ली का छिलका आदि बिछाया जाता है।
चूज़ों के आने से पहले इन पाउडर या छिलकों को पुरे शेड में 3-4 इंच तक मोटे परत में बिछाना जरूरी है। लिटर पूरा नया होना चाहिए। एवं इसमें किसी भी प्रकार का संक्रमण नहीं होना चाहिए।
उसको बिछाने के बाद याद रखें प्रति 3-4 दिन में चुन का छिडकाव इस litter के ऊपर करना जरूरी है। साथ ही छिडकाव करने के बाद एक खुरपी से उलट पुलट करना आवश्यक होता है। इससे लिटर सुखा रहता है और शेड में मक्खी मछर कम होता हैं।
20-25 दिन में litter को बदलना बहुत जरूरी होता है। यह लिटर आपके खेतों के लिए बहुत अच्छा खाद के रूप में उपयोग में लाया जा सकता है साथ ही मछली पालन वालों के लिए भी यह एक अच्छा मछली दाना के रूप में उपयोग लाया जाता है।

ब्रायलर फार्म के शेड फर्श में भूसा डालना क्यों जरूरी होता है?

  1. इससे मुर्गियां साफ़ रहती है।
  2. इससे ब्रायलर फार्म में दुर्गंध कम होता है।
  3. लिटर के लिए ऊपर दी हुई चीजों का उपयोग ना करने से ब्रायलर को कई प्रकार कि बीमारियाँ होती हैं।
  4. इससे फार्म में काम करने वाले लोगों को भी शेड में काम करने में मुश्किल हो सकती है क्योंकि लिटर ना होने पर शेड का फर्श हमेशा गीला रहेगा।
  5. इससे मुर्गियों का वज़न कम हो जाता है।
इसे भी पढ़ें -  भारत में मुर्गियों की नस्लें (कुक्कुट नस्ल) Chicken Breeds in India Hindi

1 thought on “ब्रायलर फार्म शेड के फर्श पर लिटर Broiler Farm Shed Litter details in Hindi”

Leave a Comment